पेन का आविष्कार कब और किसने किया ? पूरी जानकारी detail में

(pen) पेन का आविष्कार कब और किसने किया ? और ये कितने प्रकार के होते हैं ? पेन कैसे काम करता है ? पूरी जानकारी हिंदी में

दोस्तों ! आज हम जानेंगे कि पेन का आविष्कार किसने किया ? पूरी जानकारी detail में। जी हाँ ! आज के समय में ऐसा कौन होगा, जिसे पेन के बारे में जानकारी न हो।

आज अनपढ़ से अनपढ़ व्यक्ति भी पेन के बारे में जानता है और आज पेन का इस्तेमाल हरेक स्थान में किसी न किसी रूप में जरूर किया जाता है।

तेजी से बढ़ती technology पुरानी चीजों के महत्व को कम करती जा रही है। डिजिटल शिक्षा होने के कारण, जिस प्रकार बढ़ती social media का उपयोग, डाक सेवा को इस्तेमाल कम करती जा रही है।

ठीक उसी प्रकार विकसित देशों में डिजिटल उपकरण के चलते कॉपी और पेन का महत्व भी घटता जा रहा है। लेकिन कई देशों में पेन का उपयोग अभी-भी जारी है।

लेकिन क्या आपने कभी यह जानने का प्रयास किया की आखिरकार pen की खोज किसने और कब किया ? अगर आप पेन के आविष्कार के बारे में जानना चाहते हैं तो आप बिलकुल सही जगह पर आएं हैं।

आज हम आपको pen के बारे में पूरी जानकारी detail में बताने का प्रयास करेंगे। जो आपके लिए काफी helpful साबित होगा।

आप लोगो में से कई लोगो ने pen के आविष्कार के बारे में जानने का प्रयास जरूर किया होगा। तभी तो आप इस पोस्ट को पढ़ रहें है।

दोस्तों ! पेन हमारे जीवन का एक अभिन्न हिस्सा है, जिसे हम कई प्रकार के documents को verify करने के लिए या हमारे जीवन से जुड़ी चीजों को सीखने के लिए, कॉपी-किताब और पेन का महत्वपूर्ण इस्तेमाल करते हैं।

जी हाँ friends ! Students के life का एक अहम हिस्सा, जो ना सिर्फ students life तक सीमित होता है, बल्कि student life के बाद भी उनकी अहम जरुरत बन जाती है।

पेन हमारे जिंदगी के हर पड़ाव में साथ होते हैं। पेन के बिना हमारी जिंदगी कैसी होती शायद इसकी कल्पना करना थोड़ी मुश्किल होगी।

हालाँकि बढ़ती technology की वजह से कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाने लगा है। जिससे पेन की जरुरत कम हो गयी है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि पेन का use नहीं किया जाता है।

बल्कि इससे पेन की value और भी बढ़ जाती है। भले ही technology कितनीं भी बढ़ जाये, लेकिन पेन का इस्तेमाल बंद हो जाये ऐसा possible नहीं है। क्यूंकि पेन से लिखने का मजा ही कुछ और है।

तो दोस्तों ! आईये बिना देरी किये बिना जानने का प्रयास करते हैं कि आखिरकार pen का आविष्कार कब और किसने किया ? सबसे पहले हम यह जानने का प्रयास करते हैं कि पेन क्या है ? और पेन का फुल form क्या होता है।

पेन क्या है ? (What is Pen)

दोस्तों ! हम लोग pen का इस्तेमाल जरूर करते हैं लेकिन हम यह कभी जानने का प्रयास नहीं करते हैं कि पेन क्या है ?

मैं यहां आपकी जानकारी के लिए बता देना चाहता हूँ कि “pen एक लेखनी है, यानीं की एक ऐसा उपकरण, जिसका इस्तेमाल किसी text को लिखनें के लिए किया जाता है अर्थात स्याही को कागज पर उतारने के लिए किया जाता है।”

इससे सिर्फ लोगों द्वारा manually work के लिए किया जाता है। इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल students और professionals द्वारा किया जाता है।

क्यूंकि pen, copy और book ही student की life के सच्चे साथी होते हैं। Students का अधिकतर समय इन्हीं के साथ व्यतीत होता है।

Note:- आज हम जिस pen का इस्तेमाल करते हैं वह ज्यादातर ball pen & gel pen होते हैं।

पेन का फुल फॉर्म (Full Form Of Pen)

वैसे तो friends ! आधिकारिक रूप से पेन का कोई full form नहीं होता। पेन एक खुद पूर्ण रूप है, जिसका हिंदी में मतलब होता है कलम। जिसे हिंदी में में कलम कहते हैं।

लेकिन अक्सर गांव-शहर के लोग कलम नहीं जानते हैं। क्यूंकि इस समय हर जगह पेन का अंग्रेजी शब्द अर्थात Pen ही इस्तेमाल किया जाता है।

मुख्यतः गावों में लोग “कलम” के नाम से जानते हैं। जहाँ तक बात है पेन के full form की तो इसका कोई full form नहीं होता है। लेकिन इसके profession पर based कुछ प्रचलित full form इस प्रकार हैं।

  • Poets, Editors & Novelists Association
  • Poets Essayists & Novelists

पेन का इतिहास (History Of The Pen)

पेन के इतिहास की बात करें तो हजारों साल पहले लिखने के लिए मोरपंख, चिड़ियों के पंख या लकड़ी का इस्तेमाल किया जाता था। एक खास तरह की लकड़ी के एक हिस्से को नुकीला बनाकर उसे इंक में भिगोकर लिखा जाता था।

आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि पूरी दुनिया में प्रत्येक दिन लाखों लोगों द्वारा प्रयोग किये जाने वाले पेन का इतिहास लगभग आठ दशक पुराना है।

जोस बिरो, पेन से लिखते समय होने वाले धब्बों से बहुत परेशान थे। अतः उनके मन में एक ऐसा पेन बनाने का विचार आया, जिसकी स्याही जल्दी सूख जाती हो और लिखने पर धब्बे भी न पड़ें।

हंगरी में एक पत्रकार के रूप कार्य करते समय उन्होंने देखा कि अखबारों की छपाई में जिस स्याही का प्रयोग किया जाता था, वह जल्दी सूखती जाती थी एवं उससे कागज पर धब्बे नहीं पड़ते थे। इसके लिए उन्होंने पेन में जल्द सूखने वाले अखबारी स्याही का उपयोग किया।

लेकिन वह सफल नहीं हुआ, क्योंकि यह स्याही बहुत मोटी थी, जिससे पेन की निब तक पहुंचने में बहुत समय लगता था। जिससे लिखने में परेशानी का सामना करना पड़ता था।

इसी के बाद modern पेन फाउंटेन पेन, जेल पेन, बॉलपोइंट पेन का आविष्कार हुआ।

पेन का आविष्कार (Invention Of The Pen)

पेन का आविष्कार सन 1931 में Laszlo Biro (लैस्ज़लो बिरो) द्वारा किया गया था। जिनका जन्म सन् 1899 में हंगरी के बुडापेस्ट शहर में एक यहूदी परिवार में हुआ था।

वे पेशे से पत्रकार, चित्रकार और आविष्कारक थे। उसके बाद उन्होंने अपना नाम “लाजियो जोसेफ बिरो” रख लिया था और वे इसी नाम से प्रसिद्ध हैं।

Note:- दोस्तों ! जोस बिरो नाम के scientist ने सही viscosity अर्थात चिपचिपाहट वाली स्याही के लिए अपने भाई “जोर्जी बिरो” की मदद ली थी।

जिनकी दवा की shop थी और इसी जोड़ी ने मिलकर 15 जुलाई सन 1938 को इस पेन को “बिरो” नाम से patent करवाया था।

आज “बीआईसी क्रिस्टल बिरो” दुनिया का सबसे लोकप्रिय पेन है। जिसमे ब्रिटेन, आयरलैंड, ऑस्ट्रेलिया और इटली जैसे देशों में इस कलम (बिरो) का इस्तेमाल किया जाता है।

पेन के प्रकार (Types Of Pen)

दोस्तों ! आज के समय में market में हर दिन नए बदलाव देखने को मिल रहा है और ऐसे में कोई भी पूरी तरह से sure नहीं कह सकता कि पेन कितने प्रकार के होते हैं ?

लेकिन कुछ parameter के आधार पर हम यह decide कर सकते हैं कि pen कितने प्रकार के होते हैं ? जैसे कि steel point pen, fountain pen व् ball pen आदि।

तो आईये pen के प्रकार के बारे में विस्तार से जानने का प्रयास करते हैं

1. Steel Point Pen

बर्मिंघम के John Michelle ने बड़े पैमाने पर मशीन निर्मित steel point pen विकसित करना शुरू किया। ये स्याही पेन थे और क्विल शासनकाल में ही कार्य करते थे।

जिसे स्याही में डूबा होने की जरूरत होती थी। लेकिन यह मजबूत और बहुत कम महंगे होते थे। जिसके चलते इसकी लोकप्रियता कम हो गयी।

इतिहासकारों का मानना है कि 1850 के दशक तक बर्मिंघम में सभी dip pen के आधे हिस्से बनाए गए थे। यहां तक कि education और literacy के विकास में भी को इसका अधिक सुलभ लेखन में उपयोग किया जाने लगा था।

2. Fountain Pen

दोस्तों ! जैसा की हम सभी जानते कि आवश्यकता आविष्कार की जननी होती है और शायद इसी के चलते fountain pen का निर्माण हुआ। दुनिया में फाउन्टेन पेन को आधुनिक बनाने का काम 19वीं सदी में शुरू हुआ।

एविस वॉटरमैन ने 1884 में फाउन्टेन पेन का patent कराया। सबसे पहला फाउन्टेन पेन 1702 में फ्रांस के एम बायोन ने तैयार किया था।

बीसवीं सदी में रिफिल वाले पेन अस्तित्व में आए, जिनमें प्लास्टिक की एक पतली रिफिल में गाढ़ी इंक भरी होती थी और आज के fountain pen में भरी ink से कहीं ज्यादा समय तक इस्तेमाल की जा सकती थी। बाद में इसे ball pen के नाम से जाना जाने लगा।

Note:- फाउन्टेन पेन का ही एक रूप जेल पेन भी है, जिसमें ink भरी होती है और इससे काफी अच्छी handwriting बनती है।

यह एक ऐसा पेन होता है, जिसमें रिफिल की जगह निब से लिखते हैं। इस पेन के एक हिस्से में इंक भरी होती है, जिसे खत्म होने पर फिर भरना पड़ता है।

फाउंटेन पेन का आविष्कार किसने और कब किया था?

आधुनिक फाउंटेन पेन का आविष्कार का श्रेय फ्रेंच inventor Petrache Poenaru (पेट्राचे पोइनरु) जी ने सन 1827 में किया था ।

3. Ball Pen

आज हम जिस रिफिल पेन का इस्तेमाल करते हैं, उसे ball pen कहते हैं। यह एक टिकाऊ, अधिक सुविधाजनक pen है। जो किसी भी तरह की लकड़ी, कार्डबोर्ड,पेपर आदि की सतहों पर रखकर लिखा जा सकता है।

आज के time का सबसे लोकप्रिय और व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला पेन, ball pen का अपना एक दिलचस्प इतिहास है। इसे हम modern technology का pen भी कह सकते हैं।

बॉल पेन का आविष्कार किसने और कब किया था ?

बॉल पेन का आविष्कार John J Loud (जॉन जैकब लाउड) और Laszlo Biro ने सन 1888 में किया था। लेकिन बॉलपॉइंट पेन के आविष्कार का श्रेय मुख्य रूप से John J Loud को दिया जाता है।

पेन कैसे काम करता है ? (Working principal Of Pen)

दोस्तों ! हम जब भी कोई चीज pen से लिख रहें होते हैं तो अक्सर हमारे दिमाग में यह ख्याल जरूर आता है कि आख़िरकार पेन कैसे काम करता है ? तो मैं यहां आपकी जानकारी के लिए बता देना चाहता हूँ कि

“जब भी हमारे पेन की निब कागज के साथ के संपर्क में आता है तो पेन की निब घूमने लगती है और cortage से स्याही प्राप्त करने लगती है, जिससे लिखने का काम होने लगता है।”

वर्तमान समय में पेन का निब सामान्यतः brass (पीतल), steel (इस्पात), tungsten व् carbon जैसे धातुओं से बनी होती है।

Conclusion

तो दोस्तों ! हम उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा यह लेख पेन का आविष्कार कब और किसने किया ? पूरी जानकारी detail में जरूर पसंद आया होगा और आपको काफी महत्वपूर्ण जानकारी मिली होगी।

जिसमे हमने आपको हम सबकी जिंदगी से जुड़ा एक अहम हिस्से pen के बारे में बताने का प्रयास किया। खासकर उन बच्चों के लिए, जो अपना सारा क्लास वर्क और होमवर्क पेन से ही करते हैं।

अगर आपको हमारा यह लेख पेन का आविष्कार किसने किया ? पूरी जानकारी हिंदी में पसंद आया हो तो अपने दोस्तों ! के साथ जरूर साझा करें।

और साथ ही अपनी राय comment box में जरूर दें। क्योंकि आपका एक feedback हमारे लिए बहुत valuable है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here