जानिए Mouse क्या है और कितने प्रकार के होते हैं ? पूरी जानकारी हिंदी में

Mouse क्या है और कितने प्रकार के होते हैं ? पूरी जानकारी हिंदी मे

अगर आप एक computer user हैं तो ऐसे में mouse के बारे भली-भाति जानते होंगे कि माउस क्या है ? लेकिन क्या आप जानते हैं कि Mouse कितने प्रकार के होते हैं ? अगर नहीं तो यह article आपके लिए बहुत ही valuable और informational होने वाला है। क्योंकि इसमें आपको mouse से related all queries का जवाब मिलेगा। तो आईये सबसे पहले जानते हैं कि

विषय - अनुक्रम

माउस क्या है ? (What Is Mouse In Hindi)

Mouse एक input device है, जिसे pointing device भी कहा जाता है। Graphical User Interface (GUI) के प्रयोग से इसका महत्व बढ़ गया है।

माउस कितने प्रकार के होते है?

आज बाज़ार में कई प्रकार के mouse उपलब्ध हैं, जिनमे से कुछ बहुत अधिक प्रचलित हैं। वे एक प्रकार हैं

  • Mechanical
  • Optical
  • Cardless
  • Touch Pad
  • Joystick
  • Trackball

1. मैकेनिकल माउस

Mechanical mouse के अंदर rubber या metal की ball होती है। जब इस ball को किसी भी दिशा में घुमाया जाता है, तब mouse के अंदर लगे sensor ball की गति और दिशा को नाप कर, उसी के अनुसार screen पर mouse pointer को उसी के आधार पर घुमाते हैं।

2. ऑप्टिकल माउस

ऐसे सभी mouse, जो pointer के movement के लिए Light Emitting Diode (LED) या Light Amplification By Stimulated Emission Of Radiation (LASER) का उपयोग करते हैं, optical mouse कहलाते हैं।

ये माउस अन्य mouse की तुलना में बहुत advance होते हैं। इन mouse को उनके निचले हिस्से को देखकर आसानी से पहचाना जा सकता है। यदि माउस के अंदर कोई ball नहीं है, उसके निचले हिस्से से light दिखाई दे, तो वह संभवतः optical mouse होगा।

इस तरह का mouse, ball पर आधारित mouse की तुलना में बहुत अधिक शुद्ध हैं, परन्तु ऑप्टिकल माउस में कभी-कभी bright light के कारण समस्या हो सकती है। आजकल के optical mouse ने यह समस्या हल कर दी है और इन्हें किसी भी सतह पर प्रयोग किया जा सकता है।

3. कार्डलेस माउस

इन्हें wireless mouse भी कहा जाता है और इन्हें computer के साथ बिना किसी wire के उपयोग किया जा सकता है। Cardless Hardware उपकरण अधिकांशतः infrared या bluetooth rays का उपयोग करते हैं। कार्डलेस नेटवर्क, जिन्हें वाई-फाई भी कहते हैं, वे IEEE 802.11 wireless standard पर आधारित होते हैं।

यद्यपि cardless hardware में कोई wire की आवश्यकता नहीं होती है, फिर भी इन्हें किसी ऐसे उपकरण की आवश्यता होती है, जो signals को प्रसारित कर सके। उदाहरण के लिए bluetooth, माउस को उपकरण bluetooth transreceiver की आवश्यकता होती है, जो mouse से signals का आदान-प्रदान कर सके।

इसके अतिरिक्त इस उपकरण को power की जरुरत भी होती है, जो या तो battery से या computer से पूरी की जाती है।

4. टचपेड

Touch Pad भी pointer को move करने वाला उपकरण है। जब हम टचपेड की समतल सतह पर अपनी अंगुली घुमाते हैं, तो screen पर cursor भी उसी दिशा में घूमता है। Mouse की तरह ही touchpad सतह के नीचे दो buttons होते हैं, जिनका माउस बटन की तरह उपयोग किया को जाता है।

इसमें cursor move करने न तो किसी विशेष button को दबाने की जरुरत होती है (की-बोर्ड की तरह) और न ही किसी उपकरण को पकड़ने की (माउस की तरह), इसलिए इसका अधिकांश उपयोग उन लोगो के लिए किया जाता है, जिनमे कुछ अपंगता होती है।

TouchPad का अधिकांश उपयोग laptop और palmtop computers में देखने को मिलता है। आजकल यह कुछ key-board में भी उपलब्ध रहता है। इसे glide point, pressure sensitive tablet या track pad भी कहते हैं।

5. जॉयस्टिक

Joystick एक बाहरी input उपकरण है, जिसका उपयोग cursor को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने के लिए और programmes के विभिन्न अववयों को चुनने के लिए किया जाता है। इसका अधिकांश उपयोग computer games में होता है।

इसकी मदद से किसी भी game में किसी भी object को आसानी से navigate कर सकते हैं। जैसे flight seculator में plane चलाना।

इसमें एक मुख्य आधार तथा उसके लंबवत छड़ी होती है। इस छड़ी को किसी भी दिशा में घुमाकर screen के ऊपर object को घुमा सकते हैं। Joystick माउस और trackball की तरह ही काम करती है, परन्तु इसका उपयोग विशेषरूप से game खेलने में ही होता है।

6. ट्रैकबॉल

Track Ball माउस family का ही input उपकरण है, जो की खड़े हुए mouse (upside-down mouse) की तरह दिखता है। Screen पर pointer move करने के लिए trackball को अगूंठे या अंगुली चलाते हैं। ट्रैकबॉल को mouse के alternate के रूप में उपयोग किया जाता है। इसमें भी माउस की buttons होते हैं, किन्तु screen पर pointer को move करने के लिए इसके ऊपरी हिस्से की ball को घुमाया जाता है।

Mouse की तुलना में trackball में हाथ और कलाई का कम उपयोग करना पड़ता है। कुछ लोग mouse की तुलना में trackball को ज्यादा आसान समझते हैं। इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि इसमें समतल सतह की जरुरत नहीं होती है। इसी कारण से इसे कभी-कभी laptop computers में भी शामिल किया जाता है।

माउस का क्या काम है?

Computer को सामान्यतः graphical user interface (GUI) वातावरण में उपयोग किया जाता है। इसका अर्थ यह है कि user computer की screen पर pointer को move करके और icon को click करके command select करता है।

Mouse का उपयोग इसे mouse mate या अन्य flat surface पर ले जाने के लिए किया जाता है। यह माउस के तल पर ball को ले जाता है। Ball का movement computer को signal भेजता है। Software इस signal की व्याख्या करता है तथा operation perform करता है, जैसे cursor को move करना या line draw करना।

Mouse की मदद से user (GUI) Graphical User Interface वातावरण में pointer को control करता है। माउस का उपयोग करके user विभिन्न प्रकार के कार्य कर सकता है। जैसे किसी program या file को open करना। इसके लिए user को command भी याद नहीं रखने पड़ते हैं। जैसे कि MS-DOS वातावरण में command याद रखने पड़ते हैं।

माउस का फुल फॉर्म क्या है?

माउस का full form है Manually Operated User Selection Equipment या Mechanically Operated User Signal Engine, जिसका हिंदी रूपांतरण है मैन्युअल रूप से संचालित उपयोगकर्ता चयन उपकरण या यंत्रवत् संचालित उपयोगकर्ता सिग्नल इंजन।

माउस के जनक कौन हैं?

इस hardware input-उपकरण को डगलस एन्जलबर्ट (Douglas Engelbart) ने सन 1963 में बनाया था। ये उस समय Stanford Research Institute में कार्यरत थे। इसीलिए इन्हें mouse के जनक/आविष्कारक अर्थात founder of mouse कहते हैं।

शुरुआत में mouse display system के लिए x-y position बताने वाले उपकरण के रूप में बनाया था। इसके बाद जेरॉक्स (Xerox) कंपनी ने सन 1973 में अपने Alto Computer System में उपयोग किया था। परन्तु यह अल्टो computer चल नहीं सका। इसलिए mouse का सर्वप्रथम प्रचलित उपयोग Apple Lisa Computers में किया गया। आज के समय में mouse प्रत्येक computers के साथ पाया जाता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (Related Queries Of Mouse In Hindi)

आईये अब अक्सर पूछे जाने वाले questions के answers जानने की कोशिश करते हैं, जो कुछ इस प्रकार है।

कीबोर्ड और माउस क्या कहलाता है?

Keyboard और Mouse input device कहलाते है इनका use computer को निर्देश और command देने के लिए किया जाता है।

माउस के कितने भाग होते हैं?

Mouse के मुख्यतः 6 भाग होते हैं। जो इस प्रकार हैं Mechanical, Optical, Cardless, Touch Pad, Joystick, Trackball आदि।

माउस का दूसरा नाम क्या है?

Mouse का दूसरा नाम pointing device है।

कंप्यूटर माउस के खोजकर्ता कौन हैं ?

डगलस एन्जलबर्ट (Douglas Engelbart)

माउस कौन सी डिवाइस है इनपुट या आउटपुट?

यह GUI (Graphic User Interface) में सबसे ज्यादा प्रयोग होने वाली pointer input device है।

कंप्यूटर में तीर को क्या कहते हैं?

कंप्यूटर में mouse के तीर को cursor या pointer कहते हैं।

माउस को हिंदी में क्या कहते हैं?

Mouse को hindi में मैन्युअल रूप से संचालित उपयोगकर्ता चयन उपकरण या यंत्रवत् संचालित उपयोगकर्ता सिग्नल इंजन कहते हैं ।

माउस की खोज कब हुई?

Mouse की खोज सन 1960 में डगलस एंजेलबर्ट द्वारा किया गया।

माउस में कितने button होती हैं?

Mouse में 2 या 3 button हो सकते हैं, जिन्हे दायां, बायां और मध्य बटन (Left, Right & Centre) कहते हैं। इसके नीचे एक rubber ball होता है। किसी समतल ( mouse pad) पर माउस को हिलाने पर ball घूमता है तथा उसकी गति और दिशा के अनुसार monitor screen cursor की गति और दिशा में परिवर्तित हो जाती है।

माउस में तीन button होते हैं

  • Left Button:- इससे click, double-click, point या drag का काम लिया जाता है।
  • Right Button:- यह विशेष कार्य जैसे dialog box खोलने, properties देखने आदि का काम करता है।
  • Centre Button:- इसे scroll button भी कहते हैं। इसका उपयोग कर किसी document में page को आगे-पीछे किया जाता है।

माउस के मुख्य कार्य क्या हैं?

  • Point & Select करना, mouse pointer को किसी स्थान पर ले जाने पर अगर वह हाथ के आकार हो जाए तो इसे point कहते हैं। किसी स्थान पर अगर icon या अक्षर (text) के रंग में परिवर्तित हो जाए तो उसे select कहा जाता है।
  • Click:- माउस button को एक बार दबाकर छोड़ना।
  • Double Click:- माउस के बाए button को जल्दी-जल्दी दो बार दबाकर छोड़ना।
  • Drag:- माउस के बाएं button को दबाये रखकर mouse को एक स्थान से एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाना। इसका प्रयोग icon, चित्र या अक्षर को एक स्थान से दूसरे स्थान ले जाने के लिए किया जाता है।
  • Paint:- प्रोग्राम में इसे कलम/ब्रश की तरह प्रयोग किया जाता है।

आज आपने जाना माउस क्या है और कितने प्रकार के होते हैं ?

उम्मीद करते हैं कि आपको Mouse क्या है और कितने प्रकार के होते हैं ? संपूर्ण जानकारी मिल गयी होगी और माउस से related queries के answers भी मिल गए होंगे। अगर फिर भी आपको इस आर्टिकल What Is Mouse In Hindi से जुड़े कोई भी doubts है तो आप हमें बेझिझक comment लिख सकते हैं।

But अगर वहीँ आपको इससे कुछ सीखने व् जानने को मिला है तो कृपया article माउस क्या है ? को अपने friends के साथ जरूर share करें और comments करके हमें बताये कि आपको यह आर्टिकल कैसा लगा। ताकि आप भी हमारे इस मुहीम

हिंदी हमारी पहचान, हमारा गर्व है !

में शामिल होकर, अपना महत्वपूर्ण योगदान देकर साकार बनाये। ऐसे ही interesting, informational, motivational content पाने के लिए आप हमारे Allhindime Telegram को join कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here