जानिए मॉडेम क्या है और कितने प्रकार के होते हैं – (What Is Modem In Hindi)

मॉडेम क्या है ? (What Is Modem In Hindi), मॉडेम कैसे काम करता है ?, मॉडेम की विशेषताएँ (Characteristics Of A Modem), मॉडेम के प्रकार (Types Of Modem), मॉडेम का आविष्कार किसने किया ? (Founder Of Modem)

हम जब भी किसी commercial या official के लिए स्थायी internet connection के बारे में सोचते है तब ऐसे में हमें Modem शब्द सुनने में ज़रूर आता है। मॉडेम एक घरेलु छोटे स्तर पर internet connection प्राप्त करने के लिए आवश्यक उपकरण (device) है। तो आईये इस article के माध्यम से हम यह जानने का प्रयास करते हैं कि मॉडेम क्या है ? और कैसे कार्य करता है ? तथा इसके मुख्य लक्षण कौन-कौन से हैं ? तो चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं:

मॉडेम क्या है ? (What Is Modem In Hindi)

Modem वह उपकरण है, जिसे computer के साथ connect करके data भेजने या प्राप्त करने के लिए उपयोग किया जाता है। modem computers को telephone लाईनो से जोड़ने के लिए प्रयोग किया जाता है।

मॉडेम, Modulator Demodulator का संक्षिप्त नाम अर्थात full form है। यहां यह बताना उपयोगी होगा कि computer के signal digital होते जबकि telephone line के द्वारा जो signal भेंजे जाते हैं, वे analog होते हैं।

इसके लिए हमें एक ऐसे उपकरण की आवश्यकता पड़ती है, जो analog signal को digital signal में और digital signal को analog singal में बदल (convert) कर सके। जिससे दूसरे स्थान पर users को data मिल सके, यह काम मॉडेम (Modem) द्वारा किया जाता है।

Modem, डिजिटल सिग्नल की आवृत्ति (frequency) बदल कर उन्हें analog signal बनाता है। एक second में बदलने वाली आवृत्ति Bound दर कहलाती है। एनालॉग सिग्नल telephone line पर 600 से अधिक Bound Rate के नहीं हो सकते, अतः आवश्यक है कि दोनों modem एक जैसे compression methods का प्रयोग करें।

मॉडेम कैसे काम करता है ?

Digital signal, analog phone line पर transmit नहीं हो सकते हैं, इसलिए digital signals (1 और 0) को analog signal में परिवर्तित करने की प्रक्रिया को modulation, तथा analog signals, digital signals पर transmit नहीं हो सकते हैं इसलिए analog signal को digital signal में परिवर्तित करने की प्रक्रिया को demodulation कहलाती है। इसलिए modem modulation और demodulation इन्हीं दो शब्दो से मिलकर बना होता है।

Modulation और Demodulation, इन दोनों प्रक्रिया को करने वाली एक device होती है, जिसे मॉडेम (Modem) कहते हैं। मॉडेम मोड्युलेशन (Modulation) तथा डेमॉडयूलेशन (Demodulation) का संक्षिप्त रूप है।

जब transmit data signal कम शक्तिशाली होते हैं तब भी modem उपयोगी होता है। क्योंकि दूरस्थ स्थानों तक डाटा ट्रांसमिशन हेतु data signals की गति (speed) modem द्वारा निर्धारित की जाती है। यह transmission से पूर्व data signals की गति को बढ़ा देता है।

आजकल fibre optic modem भी उपलब्ध हैं, जो digital signals को प्रकाशीय signals से परिवर्तित कर कर सकते हैं। जिससे फाइबर ऑप्टिक cables में डाटा का transmission किया जा सकता है। AT & T द्वारा launch किये गए modem का नाम डाटा सेट्स (data sets) है।

Micro Computers के लिए मॉडेम data transfer rate 300, 1200, 2400, 4800 और 9600 bits per second होती है। इससे अधिक गति के modem आजकल उपलब्ध हैं।

मॉडेम की विशेषताएँ (Characteristics Of A Modem)

Modem की तीन अति महत्वपूर्ण विशेषताएं हैं। ये संचरण गति (transmission speed), त्रुटि पहचान एवं संशोधन (error detection & correction) तथा संपीडन (compression) हैं। इन तीनों विशेषताओं का विवरण नीचे दिया गया है।

1. संचरण गति (Transmission Speed)

  • Modem कई संचरण गति में उपलब्ध (available) है, जिन्हें बिट्स प्रति सेकंड (bits per second) में मापा (measure) किया जाता है।
  • Standard Modem की गति 9600 BPS, 14400 BPS, 28000 BPS, 33600 BPS तथा 56800 BPS में होती है।

2. त्रुटि जाँच एवं निवारण (Error Detection & Correction)

  • इन दिनों अधिक modem उन्नत किस्म के त्रुटि अभिज्ञान प्रोटोकॉल (error detection protocols) का प्रयोग hardware स्तर पर है।
  • त्रुटि अभिज्ञान एवं निवारण में माइक्रोकॉम नेटवर्किंग प्रोटोकॉल (Microcom Networking Protocol) का प्रयोग होता है। इस protocol को माइक्रोकॉम ने विकसित (develop) किया था। इससे शोरयुक्त telephone connections से उत्पन्न त्रुटियों को पहचाना एवं सुधारा जा सकता है।
  • ITU-T (इंटरनेशनल टेलीकम्यूनिकेशन स्टैंडर्डाज़ेशन सेक्टर) अन्य प्रोटोकॉल्स, जिनके नाम V से शुरू होते हैं (अन्यथा जो V-Dot Standard के नाम से जाने जाते हैं) उनके लिए होम है। उदाहरण V.34-288800 बॉड मॉडेम fax के लिए एरर कण्ट्रोल स्टैण्डर्ड।

3. संपीडन (Compression)

  • Modem के द्वारा प्राप्त कम transmission गति कारण अधिकतर मॉडेम कई प्रकार के data संपीडन protocol का प्रयोग करते हैं।
  • इन protocols के प्रयोग से data transmission लगभग 50% तक बढ़ सकता है।

मॉडेम के प्रकार (Types Of Modem)

  1. एक्सटर्नल मॉडेम (Externel Modem)
  2. इंटर्नल मॉडेम (Internel Modem)
  3. फैक्स मॉडेम (Fax Modem)

आईये अब हम विस्तार से जानते हैं कि मॉडेम कितने प्रकार के होते हैं ? (How many types are there of a modem)

1. एक्सटर्नल मॉडेम (Externel Modem)

External Modem एक box होता है, जो आधुनिक सर्किटरी (circuitary) को computer system के बाहर होता। है। यह computer system से एक serial port, universal serial bus या fire wire port द्वारा connected होता है और एक telephone से standard telephone jack द्वारा connect होता है। इस प्रकार का modem मार्केट में लुप्त होने के कगार पर है।

यह modem छोटे डिब्बे की तरह दिखते हैं, जिन्हें table पर computer के साथ रखा जा सकता है। External Modem में आगे के panel में कई LED indicators होते हैं, जो modem के On होने और कार्यवाही के बारे संकेत देते हैं।

Modem में छोटे speakers भी लगे होते हैं इन्हें आसानी से एक computer से हटाकर दूसरे पर लगाया जा सकता है। इसे repair के लिए भी आसानी से ले जा सकते हैं।

2. इंटर्नल मॉडेम (Internel Modem)

Internal Modem एक circuit board है, जो computer system के expansion slot (एक्सपेंशन स्लॉट) में plug किया जाता है। Internal Modem में एक लाभ यह है कि desktop पर स्थान नहीं घेरता है तथापि एक expansion slot का उपयोग करती है।

आजकल, मॉडेम PC Cards कार्डों के रूप में आते हैं। इस प्रकार के modem wireless या mobile phones के साथ उपयोग होते हैं तथा wireless transmission (वायरलेस ट्रांसमिशन) को उपलब्ध कराते हैं।

इंटरनल मॉडेम computer में अंदर लगाया जाता है। इसे PCMCIA (Personal Computer And Memory Card International Association) के नाम से भी जाना जाता है। CARD एक internal modem है, जो एक electronic circuit board जैसा दिखता है इसे set करना और प्रयोग करना थोड़ा कठिन है। इस प्रकार के modem अधिक प्रचलित नहीं हैं और बहुत कम लोगों द्वारा प्रयोग किये जाते हैं।

3. फैक्स मॉडेम (Fax Modem)

Fax Modem के उपयोग द्वारा आप अपने computer से fax (फैक्स) भेज सकते हैं और साथ ही साथ अन्य computers से fax प्राप्त भी कर सकते हैं। आप दूसरे छोर के अन्य fax modems या मशीनों से fax की गयी सूचना (information) का आदान-प्रदान कर सकते हैं।

इसका एक लाभ यह है कि आप उचित software का प्रयोग करके fax द्वारा प्राप्त सूचना को files में बदल संशोधित (edit) कर सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. मॉडेम कितने प्रकार के होते हैं ?

मॉडेम 3 प्रकार के होते हैं, जो इस प्रकार हैं

  • एक्सटर्नल मॉडेम (Externel Modem)
  • इंटर्नल मॉडेम (Internel Modem)
  • फैक्स मॉडेम (Fax Modem)

2. मॉडेम कौन सा डिवाइस है ?

एक मॉडेम एक bidirectional communications device है। ऐतिहासिक रूप से, इसका उपयोग दूरस्थ परिधीय उपकरणों को कंप्यूटर से जोड़ने के लिए किया जाता था। उस आधार पर, यकीनन, अपने आप में, यह न तो input device है और न ही output device अपितु दोनों का एक घटक है।

3. मॉडेम का क्या कार्य है ?

Modem- Modulator Demodulator का संक्षिप्त रूप है। यह computer के digital संकेतों analog संकेतों में बदलकर telephone line पर preshit करता है तथा line पर आने वाले analog संकेतों को digital संकेतों में बदलकर computer देता। है

4. मॉडेम का पूरा नाम क्या है ? (Full Form Of Modem)

मॉडेम (Modem) का पूरा नाम (full form) Modulator Demodulator है।

5. मॉडेम क्या है ?

मॉडेम (Modem) वह उपकरण (device) है, जिसे computer के साथ जोड़कर (connect) करके data भेजने या प्राप्त करने के लिए उपयोग किया जाता है। Modem (मॉडेम) computers को telephone लाईनो से जोड़ने के लिए प्रयोग किया जाता है।

6. मॉडेम क्या परिवर्तित करता है ?

मॉडेम कंप्यूटर द्वारा उत्पन्न digital आकड़ों को analog संकेतों में प्रतिवर्तित करती है तथा उन्हें telephone line पर भेजती है।

7. मॉडेम का क्या कार्य है ?

मॉडेम का कार्य कंप्यूटर को network से जोड़ने के लिए किया जाता है। कंप्यूटर द्वारा उत्पन्न डिजिटल आकड़ों के एनालॉग संकेतों में परिवर्तित करती है तथा उन्हें टेलीफोन लाइन पर भेजती है।

8. हैंडशेकिंग

जब एक modem दूसरे modem से संपर्क करता है और data का आदान-प्रदान करने के लिए modem सहमत होते हैं, तो modem ध्वनि उत्पन्न करते हैं, जिसे हैंडशेकिंग कहते हैं।

मॉडेम का आविष्कार किसने किया ? (Founder Of Modem)

मॉडेम का आविष्कार 1962 में, Bell 103 ने AT&T Corporation द्वारा पहला मॉडेम जारी किया गया था। इसके बाद 56K Modem का आविष्कार 1996 में “Dr. Brent Townshend” ने किया था। “ब्रेंट टाउनसेंड” वह व्यक्ति है, जिन्होंने 56K Bit/Sec Modem बनाने के लिए विचार किया था।

आखिर में

उम्मीद करते हैं कि आपको यह article मॉडेम क्या है ? (What Is Modem In Hindi), मॉडेम कैसे काम करता है ?, मॉडेम की विशेषताएँ (Characteristics Of A Modem), मॉडेम के प्रकार (Types Of Modem), मॉडेम का आविष्कार किसने किया ? (Founder Of Modem) आदि के बारे में संपूर्ण जानकारी मिल होगी।

आपको यह आर्टिकल कैसा लगा comment करके अपनी प्रतिक्रिया जरूर लिखे। अगर फिर भी आपको इस article को लेकर कोई doubts है तो जरूर पूछे आपके द्वारा पूछे गए सवालों का जवाब देने की पूरी कोशिश करेंगे और ऐसे ही valubale content पढ़ने के लिए आप Allhindime टेलीग्राम को ज्वाइन कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here