जानिए Mutual Fund क्या है और इसमें निवेश (investment) कैसे करें ?

Mutual Fund kya hai
Term fund / time value of money / wealth creation, financial concept : US dollar bag, rising bar graph with hourglass, ideas about sustainable fund investment from private income for long term growth

यदि आपने इससे पहले कभी investment किया है या करने की सोच रहे हैं तो आप इस article को पूरा पढ़ें। आज ज़्यादातर लोग investment तो करना चाहते है, लेकिन actual में उन्हें पता ही नहीं होता कि वो अपने पैसे कहाँ invest करें, जिससे उन्हें अच्छा return भी मिले और risk भी कम हो। ऐसे में हम कई ऐसे platform ढूँढ़ते हैं ताकि हम अपने पैसे को सही जगह पर invest कर सकें।

ऐसे में हमें काफ़ी research करने के बाद mutual fund के बारे में पता चलता है, जहाँ कम risk के साथ साथ अच्छा ख़ासा return भी मिलता है। Mutual Fund में यदि आप long term में invest करें और आपको loss हो ऐसा हो ही नहीं सकता।

मार्केट में 500 से भी अधिक स्कीम है, जिनमे आप पैसे लगा सकते है। फिर चाहे आप सबसे ख़राब scheme में ही क्यों न investment करे। इसमें आपको 10 15 % return ज़रूर मिलता है। जो की FD से तो better ही रहता है।

लेकिन जब बात आती है investment कि तो हमें यह पता होना चाहिये कि म्यूच्यूअल फण्ड क्या है ? और Mutual Fund में निवेश (investment) कैसे करें, तो चलिए जानने का प्रयास करते हैं कि

Mutual Fund क्या है (What Is Mutual Fund In Hindi)

Mutual Fund निवेश (investment) करने का एक smart जरिया होता है, जिससे लोग अपनी risk लेने की क्षमता के अनुसार निवेश कर सकते हैं। इसमें निवेशक अपने fund को manage करने के लिए एक AMC(asset management company) को exposure प्रदान करती है ताकि AMC का fund manager आपके पैसे से कई कंपनियों के shares खरीद करके investment कर सके। इसमें आपको एक साथ कई कंपनियों में investment करने का मौका मिलता है।

म्यूच्यूअल फण्ड आपको केवल share market में ही निवेश करने का मौका नहीं देता बल्कि कई अन्य तरह के investment का मौका देता है। इसमें आप equity mutual fund और dept mutual fund दोनों में निवेश कर सकते हैं। इन दोनों में invest किया हुआ fund सरकारी और प्राइवेट कंपनियों के bond में निवेश किया जाता है। जिससे आपके पैसे को लगभग bank की तरह ही निवेश की सुरक्षा मिलती है।

Mutual Fund कैसे काम करता है ?

मान लीजिये आपको PAGEIND के 2 शेयर लेने है, जिसमे एक शेयर की कीमत 30,000 है तो ऐसे में अगर आपके पास 30,000 रूपए हैं तो आप केवल एक ही शेयर ले पाएंगे। तो इसके लिए AMC एक प्रकार की mutual fund scheme launch करती है, जिसमे कई investers से fund को इकठ्ठा किया जाता है और फिर उस पैसे को स्टॉक मार्केट में invest करने के लिए AMC एक stock market expert को hire करती है, जिसे हम mutual fund manager के नाम से भी जानते हैं।

यह mutual fund manager काफी research करके आपके पैसे को बहुत सारे कंपनियों में invest कर देता है। जिससे आपके पैसे को छोटे-छोटे amount को कई सारी कंपनियों में invest कर दिया जाता है, जिससे की कई कंपनियों में से यदि कुछ कंपनियों के shares का price गिर भी जाय तो भी अन्य जगह लगाए गए आपके पैसे पर कोई असर न पड़े। अर्थात loss पैसे के recovery की जा सके।

इसमें आप जितना ज्यादा long term mutual fund buy करते हैं, आपको उतना ही अच्छा return प्राप्त होता है। क्योंकि समय के साथ महंगाई भी बढ़ जाती है। जिससे stocks की price बढ़ जाती है और आपको अच्छा खासा return प्राप्त होता है। इसमें risk न के बराबर होता है।

इसमें यदि आपने बहुत ही ख़राब mutual fund scheme को भी select किया है, फिर भी आपको 15-20 % minimum return जरूर मिल जाता है। जो की bank में किये हुए FD (Fixed Deposit) से बेहतर होता है।

Mutual Fund में निवेश (investment) कैसे करें ?

Mutual Fund में निवेश करने के लिए सबसे पहले आपके पास एक demat account होना जरुरी है। इसके बाद आपको एक सही mutual fund scheme को चुनना होता है। तो सही Mutual Fund Scheme चुनने के लिए आप नीचे दिए हुए web link पर click करके अपना demat account open कर ले।

जिसके बाद ही आप mutual fund में निवेश करने के लिए eligible हो पाते हैं। इसके बिना आप किसी भी प्रकार से mutual fund में निवेश नहीं कर सकते।

इसके बाद आपको सही mutual fund में निवेश (investment) करने के लिए scheme automatic show हो जाती है, जिससे आप बड़ी आसानी से mutual fund में निवेश कर सकते हैं।

जब आपका demat account open हो जाता है या फिर demat account open करने में किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो आप contactallhindime@gmail.com पर अपनी problem को mail कर सकते हैं। जिसके through आपको एक guider allot होगा, जो आपको free of cost पूरी तरह से guide करेगा। जो बिलकुल free है।

Note:- मेल में आपको अपना पूरा name, city, mobile number, age और demat account open करने से related जो problem आ रही है, उसे जरूर लिखे। यदि आपसे mail करते नहीं बनता तो आप इस form को भरे।

जब आपका user id और password generate हो जाता है, तब आप investment guidance के according भी mail कर सकते हैं।

जब आपका demat account open हो जाता है तब आप बड़ी आसानी से आप अपना goal, stock investment, mutual fund, SIP, Lumsum, insurance, portfolio management के लिए financial planning कर सकते हैं।

यदि आपके पास पहले से ही demat account है तो आप इस form को जरूर भरे।

SIP/Lumsum Mutual Fund Investment

Mutual Fund में आप SIP और Lumsum के द्वारा भी investment कर सकते हैं। SIP (Systematic Investment Plan) यानी आप monthly क़िस्त by क़िस्त अर्थात एक छोटा-सा amount per month invest कर सकते हो। यह सुविधा इसलिए provide कराई जाती है कि मान लीजिये आपके पास इकठ्ठा investment करने के लिए fund नहीं है तो आप थोड़ा-थोड़ा fund भी monthly installment के रूप में deposit कर सकते हैं। इसमें आपके द्वारा deposit किया हुआ fund और उस fund से प्राप्त हुआ return आपको एक साथ मिल जाता है।

Lumsum के जरिये आप एक साथ mutual fund में निवेश करते हैं और आपके द्वारा चयन किये हुए समयावधि के अनुसार आपको return प्राप्त होता है।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. म्यूच्यूअल फण्ड के फायदे क्या है ?

Mutual Fund में आपको छोटे amount में भी ज्यादा diversified अर्थात ज्यादा कंपनियों में निवेश (investment) करने का मौका मिलता है और आपके पैसे को एक expert manager manage करता है। जो की खुद से manage करना थोड़ा मुश्किल भरा काम होता है। इसमें आपका पैसा एक साथ लगता है, जिससे बार-बार transaction की आवश्यकता नहीं होती। साथ ही आपको इसमें SIP के through भी निवेश करने का मौका मिलता है।

2. म्यूच्यूअल फण्ड के नुक्सान

बहुत सी AMC कंपनियां आपके fund को manage करने के लिए stock experts को salary based hire करती है, जिससे वे अपना एक expense ratio charge करती है, जो कि 1-2 % हो सकता है। Mutual Fund का return अच्छा या बुरा ही क्यों न हो, वे अपना expense ratio जरूर लेती हैं।

Market Crash के वक्त भी यदि invester अपना पैसा निकालना चाहे तो fund manager loss में ही आपके shares को निकाल के आपके fund को withdraw कर देता है। जबकि market crash होने के वक्त fund manager को और भी ज्यादा shares को खरीदने के लिए fund की आवश्यकता पड़ती है। क्योंकि shares की price गिरी हुई होती है।

अंतिम राय

Mutual Fund जोखिम न के बारबर होता है। इसलिए आप इसके माध्यम से अपने को plan कर सकते हैं। इससे आपको एक बहुत बढ़िया return प्राप्त होता है, जो को भविष्य में आपकी जरूरतों को पूरा करने में काफी मददगार साबित होता है। इसलिए आप भी mutual fund के जरिये अपनी investment journey start कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here