जानिए सिम्पलेक्स, हाफ डुप्लेक्स और फुल डुप्लेक्स (Simplex, Half Duplex And Full Duplex Hindi) के बारे मे

सिम्पलेक्स, हाफ डुप्लेक्स और फुल डुप्लेक्स (Simplex, Half Duplex And Full Duplex) के बारे मे

आज हम जानेंगे – सिम्पलेक्स, हाफ डुप्लेक्स और फुल डुप्लेक्स (Simplex, Half Duplex And Full Duplex Hindi) के बारे मे। जी हाँ ! जिस प्रकार सड़क पर मार्ग वन वे, टू वे होता है। ठीक उसी प्रकार communication channel के mode होते हैं। Communication Channel प्रायः सिम्पलेक्स, हाफ डुप्लेक्स और फुल डुप्लेक्स (Simplex, Half Duplex And Full Duplex) का प्रयोग करते हैं।

आईये हम यहां जानते हैं कि What Are The Different Modes Of A Communication Channel In Hindi ? अर्थात कम्युनिकेशन चैनल के विभिन्न मोड क्या है ? संचार माध्यम को data transmission की दिशा के आधार पर भी वर्गीकृत किया जाता है।

संचार माध्यम में data का transmission एक बार में ही दिशा में अथवा दोनों दिशाओं में होता है। इस आधार पर उसे तीन श्रेणियों सिम्पलेक्स, हाफ डुप्लेक्स और फुल डुप्लेक्स (Simplex, Half Duplex And Full Duplex) में वर्गीकृत किया सकता है।

सिम्पलेक्स (Simplex)

कम्युनिकेशन की अवस्था में data या signals सदैव एक दिशा में transmit होते हैं। उदाहरणार्थ, computer से connected keyboard के द्वारा डाटा केवल keyboard से computer की ओर transmit होता है।

इसलिए data के द्विमार्गी (Two-Way) communication के लिए इस प्रकार की दो लाइनों की आवश्यकता होती है। यद्यपि सिम्पलेक्स (simplex) लाइन सस्ती होती है, लेकिन यह computer आधारित संचार (communication) में अनुपयुक्त होती है।

कंप्यूटर आधारित (computer based) संचार (communication) में द्विमार्गीक (Two-Way) कम्युनिकेशन की आवश्यकता अधिक होती है। यहाँ तक की printer जैसी उपकरणों (devices) में भी, जिनमे data प्रायः एक ही दिशा में संचारित (transmit) होता है, यह अनुपयुक्त रहती है।

हाफ डुप्लेक्स (Half Duplex)

इस अवस्था में transmission तो दोनों दिशाओं में संभव है, लेकिन एक समय में एक ही दिशा संचारित (transmit) होता है। Transmission की यह अवस्था वैकल्पिक द्विमार्गी (Two-Way-Alternative) भी कहलाती है। उदाहरणार्थ, एक hard disk से data का आदान-प्रदान हाफ डुप्लेक्स (Half Duplex) में होता है।

जब hard disk पर data save किया जाता है तो उस समय data को hard disk से नहीं पढ़ा जा सकता और जब data hard disk से पढ़ा जा रहा हो तो save नहीं किया जा सकता है।

फुल डुप्लेक्स (Full Duplex)

इस अवस्था में एक समय में data का transmission दोनों दिशाओं (Source And Destination) में संभव होता है। विशेष उद्देश्य की telephone लाईनो में यह सुविधा होती है। Computer से कंप्यूटर के hard ware संचार (communication) में फुल डुप्लेक्स (Full Duplex) अवस्था का उपयोग होता है।

इस अवस्था के transmission में व्यापक मात्रा में data का transmission एक ही समय में दोनों दिशाओं में होता है।

आखिर में

उम्मीद करते हैं कि आपको सिम्पलेक्स, हाफ डुप्लेक्स और फुल डुप्लेक्स (Simplex, Half Duplex And Full Duplex Hindi) के बारे मे संपूर्ण जानकारी मिल गयी होगी और आपको यह लेख पसंद आया होगा। अगर फिर भी आपको इस लेकर कोई doubts है तो हमें comment लिख सकते हैं। और ऐसे ही महत्वपूर्ण जानकारी के लिए आप हमारे telegram Allhindime को join कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here