ई-लर्निंग यानी ई-शिक्षा क्या है ? (What Is E-Learning & Its Meaning In Hindi)

ई-लर्निंग यानी ई-शिक्षा क्या है ? (What Is E-Learning & Its Meaning In Hindi)

What Is E-Learning & Its Meaning In Hindi: आज की बढ़ती इस इंटरनेट के दौर में टेक्नोलॉजी ने हमारे जीवन को इस प्रकार आसान बना दिया है, जिसकी हम कल्पना तक भी नहीं कर सकते थे। समय परिवर्तनशील है, जिसका अंदाजा हम इस प्रकार लगा सकते हैं कि आज दुनिया की हर वो चीज इंटरनेट से अछूता नहीं है। शिक्षा से लेकर खेलकूद, एंटरटेनमेंट, टूरिज्म आदि हर चीज किसी न किसी तरीके से इससे जुड़ा हुआ है।

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से बताएँगे कि ई-लर्निंग यानी ई-शिक्षा क्या है ? (What Is E-Learning & Its Meaning In Hindi) के बारे में सम्पूर्ण जानकारी। तो चलिए शुरू करते हैं और जानते हैं कि ई-लर्निंग की उपयोगिता एवं मोबाइल लर्निंग एजुकेशन के बारे में।

ई-लर्निंग यानी ई-शिक्षा क्या है ? (What Is E-Learning In Hindi)

ई-शिक्षा (ई-लर्निंग) को सभी प्रकार के इलेक्ट्रॉनिक समर्थित शिक्षा और अध्यापन के रूप में परिभाषित किया जाता है, जो स्वाभाविक तौर पर क्रियात्मक होते हैं और जिनका उद्देश्य शिक्षार्थी (शिक्षा ग्रहण करने वाला) के व्यक्तिगत अनुभव, अभ्यास और ज्ञान के सन्दर्भ में ज्ञान के निर्माण को प्रभावित करना है। सूचना एवं संचार प्रणालियाँ, चाहे इनमे नेटवर्क की व्यवस्था हो या न हो, शिक्षा प्रक्रिया को कार्यान्वित करने वाले विशेष माध्यम के रूप में अपनी सेवा प्रदान करती हैं।

ई-शिक्षा अनिवार्य रूप से कौशल एवं ज्ञान का कंप्यूटर एवं नेटवर्क समर्थित अंतरण है। ई-शिक्षा इलेक्ट्रॉनिक अनुप्रयोगों और सीखने की प्रक्रियाओं के उपयोग को संदर्भित करता है। सरल शब्दों में, ई-लर्निंग एक लर्निंग एनवायरनमेंट है, जो शिक्षण और सीखने की गतिविधियों के लिए एक मंच के रूप में सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (ICT) का उपयोग करता है। इसे ‘प्रौद्योगिकी द्वारा सशक्त शैक्षणिक’ के रूप में परिभाषित किया गया है, हलाकि ‘डिजिटल प्रौद्योगकी’ अधिक सटीक है।

मूल रूप से दो प्रकार की ई-लर्निंग है :

  • तुल्यकालिक प्रशिक्षण (Synchronous Training)
  • अतुल्यकालिक प्रशिक्षण (Asynchronous Training)

तुल्यकालिक प्रशिक्षण (Synchronous Training)

सिंक्रोनस का मतलब है ‘एक ही समय में’। वास्तविक समय में वेब के माध्यम से एक प्रशिक्षक के साथ सहभागियों का इंटरेक्शन शामिल होता है। उदाहरण के लिए वीसीआर या आभासी कक्षा के कमरे जो कुछ भी नहीं है, बल्कि असली कक्षाएँ ऑनलाइन हैं। प्रतिभागियों को त्वरित मैसेजिंग, चैट, ऑडियो और वीडियो कॉन्फ्रेसिंग इत्यादि के माध्यम से एक-दूसरे और प्रशिक्षकों के साथ सहभागिता होती है और अधिक सभी सत्रों को रिकॉर्ड और वापस खेला जा सकता है। इसके लाभ हैं

  • सीखने की गतिविधियों को लॉग इन करने या ट्रैक करने की क्षमता।
  • निरंतर निगरानी और सुधार संभव है
  • शिक्षार्थियों के बीच ग्लोबल कलेक्टिविटी और कोलेबोरेशन ऑप्यूनिटी की संभावनाएँ।
  • प्रत्येक शिक्षार्थी के लिए प्रशिक्षण को निजीकृत करने की योग्यता

अतुल्यकालिक प्रशिक्षण (Asynchronous Training)

एसिंक्रोनस, जिसका अर्थ है ‘एक ही समय में नहीं, प्रशिक्षक के साथ लाइव इंटरैक्शन के बिना प्रतिभागियों को अपनी गति से WBT (वेब आधारित प्रशिक्षण) को पूरा करने की अनुमति देता है। असल में, यह एक ऐसी जानकारी है, जो आत्म-सहायता आधार, 24/7 पर पहुँच योग्य है।

इसका फायदा यह है कि इस तरह की ई-लर्निंग शिक्षार्थियों को जब भी इसकी जरूरत होती है, तब उनकी जरूरत की जानकारी प्रदान करती है। इसमें संदेश बोर्डों, बुलेटिन बोर्डों और चर्चा मंचों के माध्यम से प्रतिभागियों के बीच बातचीत भी हुई है।

इनमें सीडी-रोम के कंप्यूटर आधारित प्रशिक्षण, (सीबीटी) मॉड्यूल शामिल हैं, वेब आधारित प्रशिक्षण इंट्रानेट (डब्ल्यूबीटी) के माध्यम से या बेहतर लिखित लेख और अन्य लिखना इसके फायदे हैं

  • तुरंत सीखने और संदर्भ के लिए ‘बस समय’ में उपलब्ध है।
  • किसी भी समय कहीं से पहुँच की फ्लेक्जिबिलिटी। एक साथ कर्मचारियों की असीमित संख्या तक पहुंचने की योग्यता सामग्री की एकरूपता और उत्पादन पर एकमात्र लागत।

छात्रों के लिए लाभ

  • World Wide Web (www) पर लॉग-इन कर सभी तरह के शिक्षण पाठ्यक्रम प्राप्त कर सकते हैं। छात्र किसी भी समय और जगह में स्वतंत्र रूप से सीख सकते हैं। ई-लर्निंग स्व-पुस्तक है और सीखने के लिए सत्र सभी समय उपलब्ध है।
  • छात्र पाठ्यक्रम सामग्री को अपनी आवश्यकताओं के अनुसार कस्टमाइज कर सकते हैं। वे अपनी सीखने की प्रक्रिया पर नियंत्रण बढ़ाकर विषय को बेहतर ढंग से समझने में सक्षम होते हैं।
  • ई-लर्निंग सीखने के तरीकों के लिए सभी व्यक्तियों को पर्याप्त बातावरण प्रदान करता है।
  • छात्र को सभी पाठ्यक्रम सामग्री के लिए एकल केंद्रीय स्थान प्राप्त होता है।
  • छात्रों को अन्य छात्रों और संचार और सूचना प्रौद्योगिकी से जुड़े योग्य शिक्षकों के साथ उन्नत विनिमय के लिए एक मौका मिलता है।
  • ई-लर्निंग नियमित अध्ययन के लिए बेहतर संगठन प्रदान करता है, जैसे मीटिंग असाइनमेंट समयसीमा, होमवर्क इत्यादि।
  • छात्र उन शिक्षकों के साथ डील का सकते हैं, जो उच्च योग्यता प्राप्त कर रहे हैं, लेकिन अत्यधिक दूरी होने के कारण नहीं पहुंच सकते, अब ई-लर्निंग के आने के बाद वे अपनी जानकारी दे सकते हैं और छात्रों को अपने शोध में सहायता कर सकते हैं।
  • छात्रों को अपनी पसंद का विकल्प चुनने का मौका ई लर्निंग प्रदान करता है, जो उन विषयों को आकर्षित करती है जिन्हें वे पसंद करते हैं और आनंद लेते हैं।

शिक्षक के लिए लाभ

  • सबसे पहले, शिक्षण पद्धति अधिक इंटोक्टिव हो जाती है।
  • शिक्षक सभी प्रकार के छात्रों के लिए एकल दस्तावेज तैयार कर सकते हैं, ताकि उन्हें बार-बार ऐसा करने की आवश्यकता न हो।
  • शिक्षकों के लिए समय लचीला है, वे इसे स्कूलों में नियमित कक्षाओं में जारी रख सकते हैं।
  • वे नेट पर अधिक से अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, वे अपने पाठ्यक्रम सामग्री में एम्बेड करते हैं।
  • छात्रों के साथ इंटरेक्शन अधिक उपयुक्त हो जाते हैं, जब छात्र शिक्षकों के साथ अपनी समस्याओं को साझा कर रहे हैं, तब वे चेहरे का सामना नहीं कर रहे हैं। वे कम डरते हैं और उनकी समस्याओं को स्वतंत्र रूप से सकते हैं।

ई-लर्निंग वेबसाइट्स

खान अकादमी खान अकादमी की लिकप्रियता के कारण शीर्ष बिलिंग नहीं मिलती है। खान और उनकी टीम ने ऑनलाइन शिक्षा का सेल्फ-पेस, मुक्त स्रोत बनाकर अपना स्थान अर्जित किया है, जो एक इंडस्ट्री स्टैण्डर्ड बन गया है। खान अकादमी छात्रों के लिए किसी भी विषय के बारे में सीखना शुरू करने के लिए एक आसान रास्ता प्रदान करता है।

खान अकादमी निश्चित रूप से अपने अवतारों और बैज कमाने की क्षमता के साथ युवाओं को आकर्षित करता है, तकनिकी कौशल में सुधार के इच्छुक वयस्कों या उद्यमिता जैसे विषयों के बारे में जानने के लिए भी एक अत्यंत व्यवहार्य विकल्प है।

कोरसरा कोरसरा ने विषयों की विविधता पर छात्रों को मुफ्त कक्षाएं देने के लिए संग्राहालयों, विश्वविद्यालयों और अन्य संस्थानों के साथ भागीदारी की है। छात्र उपलब्ध विषयों की सूची ब्राउज कर सकते हैं या बस आप किस बारे में सीखना चाहते हैं ? इस सवाल का जवाब दे सकते हैं, तब उस प्रश्न का उत्तर देते है, तो उस विषय पर उपलब्ध पाठ्यक्रमों की सूची भी प्रस्तुत की जाती है। जो छात्र इन विषयों पर परेशान रहते थे, अब वे आराम कर सकते है।

डब्ल्यू 3 स्कूल स्कूल एक निशुल्क ई-लर्निंग वेबसाइट है, जो छात्रों को वेब डिज़ाइन के विभिन्न पहलुओं को पढ़ाने के लिए समर्पित है। छात्रों को चयन करना होता है कि वे किस प्रकार विभिन्न विकल्पों में सीखना चाहते है, जिनमे शामिल हैं

  • एचटीएमएल
  • PHP
  • एमक्यूएल
  • Jquery
  • अन्य

प्रत्येक कॉन्सेप्ट के लिए जो स्टूडेन्ट चाहते हैं, वे कई तरह की अनलाइन टुटोरिअल्स पर जाते हैं, टेस्ट देते हैं तथा प्रत्येक कोर्स पूरा करते हैं। वे छात्र अंतिम परीक्षा दे कर अपने आपको प्रूव भी कर सकते हैं इसके लिए अतिरिक्त शुल्क का भुगतान कर कोर्स पूरा होने का प्रमाण पत्र प्राप्त कर सकते हैं।

टेड-एड फेसबुक या अन्य सोशल मीडिया साइट्स पर टेड टॉक सभी ने सुना होगा। ये टेड-एड कई शैक्षिक वीडियो जो कि सामान्य शिक्षा के विभिन्न विषयों पर उपलब्ध हैं, जिन्हें निःशुल्क उपयोग किया जा सकता है। न केवल टेड पर प्रेरक वक्त है, बल्कि कई सामयिक वीडियो भी हैं, जो दस मिनट से भी कम समय की महत्वपूर्ण से भरा होता है।

कोड एकेडेमी टेक वर्ल्ड में सबसे एक्साइटिंग डेवलपमेंट में से एक वो लोग हैं, जो कोड लिखना सीख रहे हैं। कोड एकेडेमी छात्रों को अपने लक्ष्य / सीखने के उद्देल का चयन करने की अनुमति देता है और फिर छात्र के लिए उचित पाठ्यक्रम की सिफारिश करता है।

ई-लर्निंग के समक्ष चुनौतियाँ

  • जागरूकता का अभाव ई-लर्निंग की प्रमुख चुनौतियों में कर्मचारियों या शिक्षार्थियों को ई-लर्निंग की प्रभावशीलता से अनजान होना है। उन्हें महसूस होता है कि ई-लर्निंग कक्षा प्रशिक्षण के रूप में प्रभावी नहीं है और प्रशिक्षुओं से आमने-सामने बातचीत का अवसर नहीं मिलेगा। लेकिन इससे दूर किया जा सकता है।
  • ई-लर्निंग को बढ़ावा देना ई-लर्निंग को बढ़ावा देने के लिए ई-लर्निंग प्रोग्राम शुरू करना एक प्रभावी तरीका हो सकता है।मार्केटिंग की व्यवस्था कर दर्शकों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए आधार के रूप में उपयोग करें। अन्य तरीकों में ई-बुक प्रकाशन, ब्लॉग और ई-लर्निंग पर एक इवेंट की मेजबानी के माध्यम से हो सकता है।
  • संचार विकसित करना दर्शकों के बीच प्रभावी संचार विकसित करने की दिशा में एक ओर दृष्टिकोण हो सकता है। दर्शकों को ई-लर्निंग स्वीकृति जल्दी से मिल जाएगी, जब उन्हें यह पता चलेगा कि ई-लर्निंग क्या है और यह उनके लिए फायदेमंद कैसे हो सकता है।

शिक्षार्थियों के लिए प्रेरणादायक

ई-लर्निंग डेवलपर्स के लिए सीखने वालों को प्रेरणा दिलाना आम चुनौतियों में से एक है। जब आप कोर्स को असरदार तरीके से शुरू करके शिक्षार्थियों को अपने उपकरणों में छोड़ देते हैं, तो संभावना है कि शिक्षार्थी ई-लर्निंग कोर्स को प्रभावी रूप से नहीं ले सकते, जैसा प्रशिक्षण करते है। इसलिए चुनौती है आप अपने शिक्षार्थियों को कैसे प्रेरित कर सकते हैं और उन्हें सीखने का अच्छा अनुभव पेश कर इसको किया जा सकता है

  • सीखने वाले की जिज्ञासा को प्रोत्साहित करना आपको कोर्स की शुरुआत में अपने शिक्षार्थियों को प्रेरित कर उन्हें पूरे पाठ्यक्रम में व्यस्त रखना होता है। इसके लिए, आप शिक्षार्थियों से कुछ विचार-विमर्श वाले प्रश्न पूछ सकते हैं। उनसे किसी स्थिति का वर्णन करने के लिए कहे या कुछ आश्चर्यजनक वक्तवव्य का उपयोग करें, जो शिक्षार्थियों को बहुत उत्साह के साथ कोर्स करने में मदद करेंगे।
  • स्पष्ट उद्देश्यों को निर्धारित करें शिक्षार्थियों को पाठ्यक्रम में लेने के बाद क्या सीखेंगे इसके बारे में बताएं और इस कोर्स से उन्हें कैसे लाभ होगा। उदाहरण के लिए, आप समझ सकते हैं कि मॉड्यूल पूरा करने के बाद वे कार्यस्थल पर होने वाली विभिन्न सुरक्षा खतरों की पहचान और जवाब दे पाएंगे।
  • एक परिदृश्य बनाएं या एक कहानी बताएँ परिदृश्य और कहानियों को शिक्षार्थियों को प्रेरित करने में शक्तिशाली उपकरण माना जाता है, क्योंकि जब शिक्षार्थियों को उनके पेशे और अनुभव से संबंधित कुछ उपकरण मिलते हैं, तो वे निश्चित रूप से इस पाठ्यक्रम को जानना चाहते हैं और लेना चाहते हैं।

कोर्स सामग्री

जब सीखने वाला ई लर्निंग पाठ्यक्रम के साथ ऑनबोर्ड पर है, तो यह वह समय है ज पाठ्यक्रम की सामग्री पर ध्यान केंद्रित करने की आवश्यकता है। एक अच्छी तरह से डिजाइन पाठ्यक्रम, पाऊखन में सामग्री पर निर्भर करता है।

ज्यादातर समय, क्लाइट से प्राप्त सामग्री अव्यवस्थित और समझना मुश्किल होती है। ऐसी सामग्री प्राप्त कर सकते हैं, जिसमें एक निश्चित विषय के तहत कवर करने के लिए पर्याप्त जानकारी नहीं है। इसे निम्नानुसार दूर किया जा सकता है

एसएमई शामिल करें

इस चुनौती को दूर करने का एक तरीका ई-लर्निंग प्रोजेक्ट में विषय विशेषज्ञो करना। एक विषय विशेषज्ञ विभिन्न विषयों में निपुण होता है और प्राप्त सामग्री पर अनुदेशात्मक डिज़ाइनर्स का मार्गदर्शन करता है। वे सुनिश्चित करते हैं कि सामग्री सटीक है और इसमें कोई अंतर नहीं है। इस तरह, एसएमई सामग्री के विषय में आने वाली समस्याओं को हल करने में काफी मदद करेंगे।

प्रभावशीलता का मूल्यांकन

ई-लर्निंग में यह मूल्यांकन करना कि पाठ्यक्रम का शिक्षार्थियों पर नियत प्रभाव पड़ता है या नहीं एक चुनौती है। आप यह कैसे निर्धारित करते हैं कि आपका कोर्स कर्मचारी या प्रशिक्षुओं की सीखने की आवश्यकताओं को पूरा कर के अपने लक्ष्य को प्राप्त कर रहा है ? यह सबसे प्रभावी समाधान है:

इस चुनौती को अपने पाठ्यक्रम में क्विज और पहेली के रूप प्रभावी आकलन शामिल करके कम किया जा सकता है। एक एलएमएस के माध्यम से पाठ्यक्रम को प्रकाशित कर सीखने वालों की गतिविधियों और प्रगति का ट्रैक रखने में मदद करता है। यह शिक्षार्थियों के मूल्यांकनों के स्कोर और परिणाम भी प्रदान करता है।

सोसाइटी पर आईटी का प्रभाव

प्रौद्योगिकी के कारण कंपनी में कुछ भूमिकाएँ अब जरूरी नहीं रहेंगी। नई नौकरियाँ तैयार की जाती हैं लेकिन यह अनिश्चित है कि आईसीटी ने दीर्घकालिक अवसरों का निर्माण या काम किया है। प्रौद्योगिकी क्षेत्र में प्रगति का मनोरंजन उद्योग पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ा है। डाउनलोड करने और स्ट्रीमिंग सामग्री की बढ़ती लोकप्रियता ने पारंपरिक आपूर्ति श्रृंखला को प्रभावित किया है, यानी उपभोक्ता के हाथों में उत्पाद बनाने की प्रक्रिया है।

  • फिजिकल मीडिया की माँग कम होने के कारण कम कच्चे माल की आवश्यकता होती है।
  • किताबों, पत्रिकाओं, सीडी और डीवीडी के उत्पादन और पैक की जाने वाली इकाइयों को करने के लिए कम हैं।
  • पैकेजिंग कंपनियों को एक ड्रॉप-इन क्रम दिखाई देता है।
  • डिलिवरी कंपनियों को वितरित करने के लिए कम है।
  • गोदाम पहले की तरह फुल नहीं होते है और स्टॉक प्रबंधन की चिंता कम है।
  • कीमतों और ऑनलाइन शॉपिंग की सुविधा के साथ प्रतिस्पर्द्धा करने के लिए हाई स्ट्रीट स्टोर्स को संघर्ष करना पड़ रहा है। उपर्युक्त सभी में कम कर्मचारियों से काम चल जाता है और लोग अपनी नौकरी खो देते हैं। नई नौकरियों में अलग-अलग कौशल की आवश्यकता होती है, जिन्होंने उनकी जगह ले ली है, उदाहरण के लिए :
  • डेवलपर्स और डिजाइनरों को ऑनलाइन स्टोर या वेबसाइट का निर्माण करना होगा।
  • जिस सर्वर पर वेबसाइट चल रही है, उसे बनाने और आपूर्ति की आवश्यकता है।
  • सर्वर में सामग्री को जोड़ने की आवश्यकता है।
  • किसी गीत, एलबम या मूवी के बारे में सारी जानकारी वेबसाइट के डेटाबेस में दर्ज की जानी चाहिए।
  • सर्वर और वेबसाइट का रखरखाव करना।
  • इन सभी नौकरियों में कर्मचारी को उन्नत आईटी कौशल विकसित करने की आवश्यकता होती है। आज प्रौद्योगिकी उद्योग में कई नौकरियों के बारे में यह सच है कि बहुत से कर्मचारियों को काम में बने रहने के लिए सक्षम करने के लिए व्यापक पुनर्प्रशिक्षण से गुजरना पड़ता है।

पर्यावरण आईसीटी पर्यावरण को लाभान्वित करता है, उदाहरण के लिए लोगों ने घर से काम करने के विकल्प से काम में जाने की आवश्यकता को कम किया है। हालाँकि, इसका नकारात्मक प्रभाव भी है। पुराने उपकरणों को निपटाना विशेष समस्या है।

इसका एक उपाय रिसाइक्लिंग है और कानून के अनुसार कंपनियों को अपने पुराने उपकरण रिसायकल करना चाहिए, पर उससे पहले कंप्यूटर से संवेदनशील या व्यक्तिगत जानकारी को हटा देना चाहिए।

हमारी अंतिम राय What Is E-Learning & Its Meaning In Hindi

आखिर में हम उम्मीद करते हैं कि आपको यह लेख ई-लर्निंग यानी ई-शिक्षा क्या है ? पसंद आया होगा और आपको इससे काफी कुछ सीखने और जानने को मिला होगा। आपको यह लेख कैसा लगा comment करके हमें जरूर बताएं तथा mobile learning education को लेकर आपकी क्या राय है।

यहां हम आप लोगों के साथ एक बात और साझा करना चाहते हैं कि अगर हम इस नयी शिक्षा प्रणाली का सही ढंग से इस्तेमाल करते हैं तो यह हमारे लिए एक विज्ञान का वरदान साबित हो सकता है। इसलिए कोशिश करें की आप ज्यादा से ज्यादा इसका उपयोग सही चीजों के लिए लाएं, वरना यह विज्ञान का वरदान, विज्ञान का अभिशाप भी बन सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here